मंगलवार, अगस्त 31, 2010

आज उसकी बात ही खत्म नहीं होती

आज तो उसकी बात ही नही ख़त्म हो रही, मैंने कभी उसे  ऐसे नहीं देखा था. हम पांचो दोस्त तीन साल से भी ज्यादा  वक़्त के बाद एक साथ मिले थे. हम चार की जिन्दगी लगभग वैसी ही चल रही थी जैसे तीन साल पहले थी. थोडा  बहुत अंतर के साथ,लेकिन एशा(बदला हुआ नाम) को देखकर, मिलकर उसकी बाते भुलाये नहीं भूलती . कितना कुछ था उसके पास कहने को. न जाने कितनी बाते बचा रखी थी उसने  कहने को. जाते जाते भी उसकी आंखे कुछ कह ही रही थी.  हम चारो पहले की तरह ही अज भी मिलने पर वही मस्ती करते है किसी की नहीं सोचते की कोई क्या कहेगा . लेकिन एशा बदल चुकी है, हमसे बहुत अलग लग रही थी.
कॉलेज के दिनों में जैसे मस्ती करने में अव्वल थे वैसे ही पढने में भी. आगे की योजनाये बनाते थे  .जो आज भी हम चारो करते है.. लेकिन एशा को कितना बदल दिया उसकी शादी ने. टीचिंग कोर्स करने के बाद भी वो घर में ही रहती है .. उसकी आँखों  में मैंने मेरे आगे बदने की खुशी देखी और अपने लिए अफ़सोस. वो किसी भी मामले में हमसे कम न थी .
ऐसा कियु है  की लडकियों की ही जिन्दगी बदलती है शादी के बाद. ..  लड़के  तो  वैसे ही अपना कैरिएर आगे बढ़ाते चलते है फिर लडकिया  कियु  नहीं. मुझे आज उसके लिय बहुत अफ़सोस होता है की उसके परिवार ने उसकी पढाई आगे नहीं बढने दी .
 ऐसा नहीं है की वो खुश नहीं है अब  लेकिन उसको देख agyya की रोज कहानी अन्यास ही याद आ गई..उसकी जिन्दगी कितनी नीरस हो गयी है. कोई नहीं है उसके पास जिससे वो कुछ कह सके..  

1 टिप्पणी:

  1. Bhartiya samaj ki Sachaayii ko saral shabdo mei humaare saamne rakhne ke liye dhanyawad .... Bahut Khoob .... :)

    उत्तर देंहटाएं